Breaking News

नहीं रहे ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के महासचिव मौलाना वली रहमानी

Views: 289
0 0
657 Views

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के महासचिव (जनरल सेक्रेटरी) और बड़े मुस्लिम धर्मगुरु हजरत मौलाना वली रहमानी का शनिवार को इंतिकाल हो गया। बतौर रिपोर्ट, मौलाना बीते 1 सप्ताह से बीमार चल रहे थे और पिछले सप्ताह शनिवार को उन्हें सांस लेने में तकलीफ होने के बाद, पटना (बिहार) के पारस अस्पताल में भर्ती कराया गया था। मौलाना वली रहमानी के इंतिकाल की जानकारी देते हुए ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने ट्विटर पर लिखा, “जनरल सेक्रेटरी मौलाना वली रहमानी साहब नहीं रहे। यह पूरे मुस्लिम उम्मा के लिए एक अपूरणीय क्षति है। सभी से दुआओं और सब्र की गुज़ारिश है।” आपको बता दें कि मौलाना वली रहमानी बिहार, उड़ीसा और झारखंड के इमारत-ए-शरिया, अमीर-ए-शरियत के रूप में भी अपनी जिम्मेदारियां दे रहे थे। मौलाना की शख्सियत ऐसे व्यकित की रही जिन्होंने पूरा जीवन समाज की बेहतरी के लिए दे दिया। उनके इंतिक़ाल से न सिर्फ इस्लामी जगत में शोक की लहर है बल्कि अन्य समुदाय के लोगों ने भी उनके इंतिक़ाल पर दुख प्रकट किया है।

80 साल के मौलाना रहमानी के इंतिकाल होने पर सत्यदेश राष्ट्रीय पत्रिका के संस्थापक और प्रधान संपादक मो.मंजूर आलम ने भी दुख प्रकट किया है। उन्होंने बताया कि मौलाना वली विद्वान व नेक इंसान थे। मौलाना वली के दुनिया को अलविदा कहने से उनका निजी तौर पर नुकसान हुआ है। आलम ने आगे कहा कि वो जब भी मौलाना वली साहब से मिलने का मौका मिलता वो उनकी दुआ लेने ज़रूर पहुचं जाते थे। वो बताते हैं कि मौलान दीनी-तालीम के काफी जानकार थे, इसके बाबजूद उनका सादा जीवन हमेशा लोगों को प्रेरित करता रहेगा। उन्होंने विभिन्न जगहों पर काज़ी शरीयत के अपने कर्तव्यों को बखूबी निभाया है । मौलाना रहमानी इमारत-ए-शरिया के अमीर-ए-शरियत के साथ-साथ रहमानी 30 के संस्थापक और खानकाह रहमानी, मुंगेर के सज्जादानशीं भी थे। मौालाना रहमानी बिहार विधान परिषद के सदस्य (MLC) भी रह चुके हैं। अमीर-ए-शरियत मौलाना रहमानी देश ही नहीं, दुनियाभर में इस्लामी स्कॉलर के रूप में जाने जाते हैं। त्रिपल तलाक और बाबरी मस्जिद सहित कई मामलों में उन्होंने मुस्लिम समाज की राहनुमाई की थी।

गौरतलब है कि मौलाना वली रहमानी का अंतिम रस्म आज करीब 11 बजे खानकाह रहमानिया मुंगेर में अदा किया गया। खानकाह रहमानिया के अहाते में उनके अब्बा हजरत मौलाना मिन्नतुल्लाह रहमानी की कब्र के बगल में उन्हें दफन किया गया। मौलाना वली रहमानी के अब्बा मौलाना मिन्नतुल्लाह रहमानी ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के संस्थापक सदस्य थे।

About Post Author

अनwar

सत्य परेशान हो सकता है, लेकिन पराजित कभी नहीं !! <a href="https://twitter.com/mdanwar010">follow me at Twitter @mdanwar010</a>
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *