Breaking News

मशहूर शायर इमरान प्रतापगढ़ी से मिल कर कांग्रेस नेता मंजूर आलम ने दी बधाई ,कहा साथ मिल कर करेंगे काम

Views: 221
3 0
179 Views

गुरुवार 23जून को AICC ऑफ़िस पहुच कर झंझारपुर लोकसभा क्षेत्र के युवा कांग्रेस नेता सह सत्य देश नैशनल मैगजीन के संस्थापक मो़. मजूर आलम झंझारपुर अवाम की जानिब से इमरान प्रतापगढ़ी को फूलों का गुलदस्ता देकर अल्पसंख्यक विभाग का चेयरमैन बनने पर दुआयें और मुबारकबाद दीं । यूवा कांग्रेस नेता मंजूर आलम जी से कई मुद्दों पर इमरान प्रतापगढ़ी ने काफी देरे तक विचार-विमर्श किया जिसके बाद मंजूर आलम ने इमरान को माइनॉरिटी डिपार्टमेंट का हर क़दम पर साथ देने का वादा भी किया। साथ ही इमरान ने मजूर आलम को ये आश्वासन भी दिया की वह जल्द ही झंझारपुर लोकसभा क्षेत्र में आएंगे और वहां भी मंजूर आलम की मदद से सगंठन को और मजबूत करेंगे।
दरअसल मुरादाबाद के रहने वाले शायर इमरान प्रतापगढ़ी को भारतीय कांग्रेस कमेटी के अल्पसंख्यक विभाग का चेयरमैन बनाया गया है। इमरान प्रतापगढ़ी उर्दू और हिंदी भाषाओं के जाने माने कवि हैं। बात करें मंजूर आलम की तो वह भी झंझारपुर के आम लोगों में अपनी खास पहचान रखते हैं वैसे मीडिया से दूर रहने वाले मंजूर आलम ‘बेबाक इंडिया’ से बात करते हुए बताया की इमरान जी को कांग्रेस कमेटी के अल्पसंख्यक विभाग का चेयरमैन बनाना यह बताता है कि कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी और पूर्व अध्यक्ष व युवाओं के आदर्श राहुल गांधी जी को देश के अल्पसंख्यक लोगों की कितनी चिंता है ,शायद यही कारण है कि उन्होंने काबिल शिक्षित युवा इमरान जी को यह जिम्मेदारी दी है ताकि अल्पसंख्योंको की स्थिति को शिक्षित कर सही तरीके से जागरूक कर समाज का उत्थान किया जा सके।
मुशायरों के लिए मशहूर हैं इमरान प्रतापगढ़ी
6 अगस्त 1987 को प्रतापगढ़ जिले के चमरूपुर शुक्लान शमशेरगंज में जन्मे इमरान प्रतापगढ़ी का वास्तविक नाम मोहम्मद इमरान खान है। इनके पिता डाक्टर हैं तो मां एक गृहणी। इमरान के परिवार का साहित्य से दूर-दूर तक कोई रिश्ता नहीं था। गजल-नज्म और मुशायरे जैसे शब्द किसी के जेहन में भी नहीं थे। प्रारंभिक शिक्षा के बाद वह अवधि के कवि स्व. आद्या प्रसाद मिश्र उनमत के संपर्क में आए। बस यहीं से गजलों और मुशायरों की दुनिया में उनका नाम होने लगा। केपी इंटर कॉलेज के पूर्व प्राचार्य और प्रसिद्ध साहित्यकार लाल बहादुर सिंह ने भी उनका मार्गदर्शन किया। 28 साल की उम्र तक पहुंचते-पहुंचते उन्होंने वह मुकाम हासिल कर लिया जिसके लिए लोगों को ताउम्र इंतजार करना पड़ता है।
यश भारती पुरस्कार से नवाजे जा चुके हैं
यश भारती पुरस्कार मिलते-मिलते आम तौर ज्यादातर लोगों के पैर कब्र में लटके होते हैं, लेकिन इमरान को शुरुआती सफर में ही सरकार ने इस पुरस्कार से नवाजा है। इन्होंने इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की है। ये 2019 मुरादाबाद लोकसभा सीट से कांग्रेस पार्टी से चुनाव भी लड़े थे।

About Post Author

अनwar

सत्य परेशान हो सकता है, लेकिन पराजित कभी नहीं !! <a href="https://twitter.com/mdanwar010">follow me at Twitter @mdanwar010</a>
Happy
Happy
100 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *