अब ऑनलाइन मंगवा सकेंगे एनसीईआरटी की किताबें, वेबसाइट शुरू।

अब ऑनलाइन मंगवा सकेंगे एनसीईआरटी की किताबें, वेबसाइट शुरू-राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एंव प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) किताबों की कमी के चलते स्कूलों को अब निजी प्रकाशकों की किताबें पढ़ाने के लिए मजबूर नहीं होना होगा। एनसीईआरटी ने इससे निपटने की पूरी तैयारी कर ली है। भारत सरकार में मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री उपेन्द्र कुशवाह ने स्कूलों और लोगों के लिए एनसीईआरटी की पाठ्य पुस्तकों की आपूर्ति के लिए बुधवार 9 अगस्त को नई दिल्ली में वेब-पोर्टल का शुभारंभ किया। इस पोर्टल से देश भर में पाठ्य पुस्तकों का बेहतर वितरण सुनिश्चित होगा और एनसीईआरटी की पाठ्य पुस्तकों की अनुपलब्धता के बारे में स्कूलों की आशंकाओं को दूर किया जा सकेगा। सत्र 2018-19 की पुस्तकों के लिए ऑर्डर देने के लिए स्कूल 8 सितंबर 2017 तक अपनी-अपनी बोर्ड संबद्धता संख्याएं और अन्य विवरण दर्ज कर इस पोर्टल पर लॉग-इन कर सकते हैं। यह वेब-पोर्टल www.ncertbooks.ncert.gov.in पर उपलब्ध है। इतना ही नहीं, स्कूलों के अलावा कोई विक्रेता या अभिभावक भी घर बैठे एनसीईआरटी की किताबें मंगा सकेगा।

एनसीईआरटी की इस पहल के बाद सीबीएसई ने देश भर के अपने सभी स्कूलों को चिट्ठी लिखकर एडवांस में ही एनसीईआरटी की किताबों की बुकिंग कराने को कहा है। सीबीएसई के चेयरमैन आर के चतुर्वेदी ने बताया कि सभी 18 हजार स्कूलों को एनसीईआरटी द्वारा शुरु किए गए वेब पोर्टल की जानकारी दी गई है। साथ ही बताया कि वह शैक्षणिक सत्र 2018-19 के लिए अभी से अपनी मांग एनसीईआरटी को दे दे, ताकि किताबें समय पर उन्हें मिल सके।

एनसीईआरटी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, पोर्टल पूरे देश में एनसीईआरटी की किताबों के बेहतर वितरण को सुनिश्चित करेगा और उनकी उपलब्धता को लेकर स्कूलों तथा अभिभावकों की आशंकाओं का निदान करेगा। पाठ्य पुस्तकें दिल्ली में एनसीईआरटी के मुख्यालयों में स्थित खुदरा बिक्री कांउटरों, इसके क्षेत्रीय शिक्षा संस्थान (आरआईई) कोलकाता, भोपाल, भुवनेश्वर, मैसूरू और शिलांग, अजमेर तथा अहमदाबाद, गुवाहाटी और बैंगलुरू में इसके क्षेत्रीय उत्पादन सह वितरण केन्द्रों पर भी बेची जाती रहेंगी।

गौरतलब है कि एनसीईआरटी पाठ्य पुस्तकें इसकी वेबसाइट www.ncert.nic.in से नि:शुल्क डाउन लोड की जा सकती है। “ ई पाठशाला” पर लॉग-इन कर या मोबाइल ऐपलिकेशन के जरिए एनसीईआरटी पाठ्य पुस्तकें डिजिटल रूप में भी प्राप्त की जा सकती हैं। एनसीईआरटी विभिन्न राज्यों/केन्द्रशासित प्रदेशों को अपनी पाठ्य पुस्तकें छापने के कॉपी राईट भी देती है। सत्र 2017-2018 के लिए 15 राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को कॉपी राईट दिए गए हैं। इस अवसर पर सचिव, स्कूल शिक्षा और साक्षरता श्री अनिल स्वरूप, विशेष सचिव, स्कूल शिक्षा और साक्षरता रीना रे, सीबीएसई के अध्यक्ष आर.के. चतुर्वेदी, सीबीएसई के निदेशक डॉ. ऋषिकेश सेनापति भी उपस्थित थे।

गौरतलब है कि एनसीईआरटी की पुस्तकों की अनुपलब्धता होने पर छात्रों के पास निजी प्रकाशकों की मंहगी किताबें खरीदने के अलावा कोई विकल्प नहीं होता है।

18 thoughts on “अब ऑनलाइन मंगवा सकेंगे एनसीईआरटी की किताबें, वेबसाइट शुरू।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

| ख़बर झलकी |